Google Passkey: आपके password को हैक होने से बचाएगा

आधुनिक डिजिटल युग में सुरक्षा एक महत्वपूर्ण चुनौती बन चुकी है। डाटा और आवश्यक जानकारी की सुरक्षा रखने के लिए विभिन्न तकनीकी उपायों की आवश्यकता होती है। इसी संदर्भ में, गूगल ने “Google Passkey” को लॉन्च किया है, जो आगामी सुरक्षा की दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम है।

सुरक्षितता में वृद्धि:

गूगल पासकी उपयोगकर्ताओं को पासवर्ड के बजाय एक सुरक्षित डिवाइस का उपयोग करके लॉग इन करने की अनुमति देता है, जिससे सुरक्षा स्तर बढ़ता है और आपके को अकाउंट चोरी का ख़तरा नहीं रह जाता।

उपयोग में सरलता:

अगर आप बार बार पासवर्ड भूल रहे हैं तो भी कोई बात नहीं गूगल passkey आपको सुरक्षित लॉगिन करा देता है।पासवर्ड याद नहीं होने से भी उपयोगकर्ताओं को सुरक्षित लॉग इन करने में आसानी होती है।

ऑटोमेटेड प्रक्रिया:

गूगल पासकी में उपयोगकर्ता को स्वत: लॉग इन करने की प्रक्रिया में ताजगी दी जाती है, जो कि उनकी सुरक्षा को और भी मजबूती देता है।

“Google Passkey” आधुनिक डिजिटल युग में, जब सभी क्षेत्रों में तेजी से डिजिटलीकरण की प्रक्रिया बढ़ रही है, यह महत्वपूर्ण है कि हम अपनी नैतिकता, गोपनीयता और सुरक्षा की दिशा में भी कदम बढ़ाएं।

Google Passkey” एक नई प्रौद्योगिकी है जिसका उद्देश्य आपके ऑनलाइन खातों की सुरक्षा को बढ़ावा देना है। यह प्रौद्योगिकी आपको पासवर्ड की जगह अपने Android डिवाइस का उपयोग करने की अनुमति देती है।

इसका मतलब है कि आपको हर बार जब आप अपने ऑनलाइन खातों में लॉगिन करना चाहेंगे, आपको पासवर्ड दर्ज करने की आवश्यकता नहीं होगी। बल्कि, आपकी डिवाइस आपकी पहचान को स्वचालित रूप से पहचानेगी और आपको स्वतः लॉगिन करने की अनुमति देगी।

यह नई प्रौद्योगिकी सुरक्षा में एक बड़ी उन्नति है क्योंकि यह आपके पासवर्ड के साथ साथ एक और स्तर की सुरक्षा प्रदान करती है।

डिवाइस की भौतिकी विशेषताओं के साथ-साथ आपके डिजिटल जीवन के साथ जुड़े अन्य सुरक्षा के प्रयासों के साथ मिलकर, यह एक मजबूत बायोमेट्रिक सुरक्षा तंत्र की तरह काम करता है।

“Google Passkey” का उपयोग करने से, आपके पासवर्ड को याद रखने की चिंता और बार-बार पासवर्ड दर्ज करने की कठिनाइयों से छुटकारा मिलता है।

यह आपके डिजिटल जीवन को आसान बनाता है और सुरक्षा के प्रति आपकी जागरूकता को भी बढ़ावा देता है।इस नई प्रौद्योगिकी के साथ, हम एक कदम आगे बढ़कर डिजिटल सुरक्षा के क्षेत्र में मजबूती प्राप्त कर सकते हैं।

Google Passkey” की सफलता से प्रेरित होकर, हमें अपने ऑनलाइन अनुभव को और भी सुरक्षित और सहज बनाने की दिशा में नए और उन्नत कदम उठाने की आवश्यकता है।

आखिर में, “Google Passkey” एक महत्वपूर्ण कदम है जो हमें अपने डिजिटल दुनिया को सुरक्षित बनाने में मदद कर सकता है, और हमें आगे बढ़कर डिजिटल सुरक्षा में सुधार करने के लिए प्रेरित कर सकता है।

Google पासकी सेट करना:

1. अपना डिवाइस अपडेट करें:

सुनिश्चित करें कि आपका एंड्रॉइड डिवाइस ऑपरेटिंग सिस्टम और Google Play सेवाओं का नवीनतम संस्करण चला रहा है।

2. पासकी सक्रिय करें:

अपने डिवाइस पर “सेटिंग्स” ऐप पर जाएं और “सुरक्षा और स्थान” चुनें।  अपने डिवाइस के विकल्पों के आधार पर “स्क्रीन लॉक” या “बायोमेट्रिक्स” चुनें और फिर “पासकी” चुनें।

3. अपना पासकी सेट करें:

अपना पासकी सेट करने के लिए ऑन-स्क्रीन निर्देशों का पालन करें।  आपको एक पिन, पैटर्न या पासवर्ड चुनना होगा जो आपके पासकी के रूप में कार्य करेगा।  इसका उपयोग आपके खातों को अनलॉक करने के लिए आपके डिवाइस की बायोमेट्रिक प्रमाणीकरण विधियों (जैसे फ़िंगरप्रिंट या चेहरे की पहचान) के संयोजन में किया जाएगा।

20230810_173722_0000-1

Google पासकी का उपयोग करना:

1. Google सेवाओं में लॉग इन करना:

जब किसी Google सेवा (जैसे Gmail, Google Drive या YouTube) के लिए अपना पासवर्ड दर्ज करने के लिए कहा जाए, तो अब आप इसके बजाय अपने पासकी का उपयोग कर सकते हैं।  बस अपना पासकी दर्ज करें, और यदि आवश्यक हो, तो संबंधित बायोमेट्रिक इनपुट प्रदान करें।

2. नए डिवाइस जोड़ना:

कोई नया डिवाइस सेट करते समय या किसी डिवाइस में पहली बार साइन इन करते समय, आप अपने Google खाते की जानकारी को तुरंत प्रमाणित करने और सुरक्षित रूप से स्थानांतरित करने के लिए अपने पासकी का उपयोग कर सकते हैं।

3. उन्नत सुरक्षा:

Google Passkey आपके डिवाइस की बायोमेट्रिक सुविधाओं का उपयोग करके सुरक्षा की एक अतिरिक्त परत प्रदान करता है।  इससे अनधिकृत व्यक्तियों के लिए आपके खातों तक पहुंच काफी कठिन हो जाती है।

FAQ:

  1. Google passkey क्या है?

    गूगल पासकी एक नई सुरक्षा तकनीक है जो उपयोगकर्ताओं को उनके ऑनलाइन खातों में सुरक्षा प्रदान करने के लिए डिज़ाइन की गई है। इसका मुख्य उद्देश्य उपयोगकर्ताओं को पासवर्ड की आवश्यकता नहीं होती, बल्कि उन्हें एक सुरक्षित डिवाइस पर ही पहुंचने की अनुमति देनी होती है। इसके लिए, उपयोगकर्ताओं को उनके स्मार्टफोन के पासकी तरह की डिवाइस की आवश्यकता होती है जिसके साथ वे लॉग इन कर सकते हैं।

  2. Google Passkey कैसे काम करता है?

    गूगल पासकी उपयोगकर्ता की डिवाइस को एक Passkey के रूप में प्रमाणित करता है। जब उपयोगकर्ता किसी वेबसाइट या ऐप्लिकेशन में लॉग इन करने का प्रयास करता है, तो उन्हें उनकी पासकी डिवाइस पर एक संदेश मिलता है। उपयोगकर्ता को उस संदेश का प्रतिक्रिया देने के बाद ही वे सफलतापूर्वक लॉग इन कर सकते हैं।

निष्कर्षण:

“गूगल पासकी” एक उन्नत सुरक्षा तकनीक है जो उपयोगकर्ताओं को पासवर्ड के बजाय सुरक्षित डिवाइस का उपयोग करके लॉग इन करने की अनुमति देती है। इसके माध्यम से उपयोगकर्ताओं की ऑनलाइन सुरक्षा में वृद्धि होगी और उन्हें अधिक सुरक्षित अनुभव की प्राप्ति होगी।

Related post:

1 thought on “Google Passkey: आपके password को हैक होने से बचाएगा”

Leave a Comment